Thursday, August 16, 2012 - 0 comments

MY ARTICLES: RIOTS OR WRONG

RIOTS OR WRONG: धर्म एक आस्था ना की हथियार
  " इल्म नहीं है मेरा इतना की तेरी आवाज़ मैं बन जाऊ, न औकात इतनी की किसी पर इल्जाम मैं लगाऊ, बस चाहता हुं इतना की मेरे शब्दों से ऐ सोते हुवे इन्सान मैं तुम्हें  जगाऊ......| "

0 comments:

Post a Comment